मिटावली : चौसठ योगिनी मंदिर MITAWALI : CHAUSATH YOGINI TEMPLE

मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में स्थित है मिटावली। चंबल की खामोशी वाले इस इलाके में मिटावली का होना एक लिहाज से अलग है। मिटावली अपने चौंसठ योगिनी मंदिर के लिए जाना जाता है। एक छोटी सी पहाड़ी पर स्थित है मंदिर । प्राकृतिक रूप से काटकर बनाई गईं सीढ़ियों से मंदिर तक पहुंचा जा सकता है। मंदिर की संरचना गोलाकार है जिसे देखकर मुझे भारत के संसद भवन की याद आ गई। कई लोग आज भी कहते हैं कि एडविन लुटियन्स और हर्बट बेकर ने संसद भवन के निर्माण के लिए इसी मंदिर से प्रेरणा ली है। बलुआ पत्थर से बना ये मंदिर एक गोलाकार संरचना है….

पढ़ावली : छुपा हुआ खजाना PADHAVALI : HIDDEN TREASURE

पढ़ावली, मुरैना से 29 किमी और ग्वालियर से 35 किमी दूर स्थित है। पढ़ावली अपने मंदिर और गढ़ी के लिए जाना जाता है। पढ़ावली गांव में एक गढ़ी (Fortress) है जिसे गढ़ी पढ़ावली कहते हैं। यहां एक गढ़ी के अंदर एक मंदिर है जो आकर्षण का केंद्र है। गढ़ी तक पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनाई गईं हैं। सीढ़ियों की शुरुआत मेें ही दोनों तरफ शेर और शेरनी की मूर्ति लगी हुई जो मानो इस तरह लग रहा है कि वे इस गढ़ी की रक्षा किसी सैनिक…..

ग्वालियर : भारत का नगीना (पार्ट – 1) Gwalior : The Gem of india (Part – 1)

एक ऐसा शहर जो अपने अतीत के तरह-तरह के रंगों में रंगा हुआ है जिसके हर एक कोने में इतिहास, कला, विरासत, शौर्य, वीरता की कहानियां भरी पड़ी हैं। आज भी इस शहर का गवाह कोई एक विशेषता नहीं है। रानी लक्ष्मीबाई का शहीद होना हो या तानसेन का सुर लगाना, किले की विशालता हो या सिंधिया की विरासत इस शहर को सबसे अलग बनाती है। इस शहर का नाम है ग्वालियर, इसे भारत का नगीना भी कहा जाता है।

मध्यप्रदेश के उत्तर में स्थित ग्वालियर बेहद ही शानदार शहर है। इसे पुराने समय में गोपांचल के नाम से भी जाना जाता था। शहर के बीचोंबीच स्थित गोपांचल पर्वत के कारण इस शहर को गोपांचल के नाम से जाना जाता था। ऐसा भी कहा जाता है कि गालव ऋषि के नाम पर इस शहर का नाम ग्वालियर पड़ा। शहर के गोपांचल पर्वत पर स्थित है भारत का जिब्राल्टर ग्वालियर का किला । बाबरनामा में इसे भारत के किलों के हार में मोती कहा है…..

डीग : जल महलों की नगरी (DEEG : THE CITY OF WATER PALACE)

जलमहल अपनी खूबसूरती और सुंदर बनावट के अलावा बेहतरीन इंजीनियरिंग के लिए जाना जाता है। डीग के जलमहल लोगों को यूं ही अपनी ओर नहीं खींचता बल्कि इसकी विरासत लोगों में आकर्षण पैदा करती है। आपने इटली के खूबसूरत शहर वेनिस के बारे में तो सुना ही होगा। मशहूर ग्रैंड कैनाल में चलते गोंडेला सबको आकर्षित करते हैं। डीग के महल भी दो तरफ से पानी से घिरा हुआ है एक तरफ है गोपाल सागर और दूसरी ओर रूप सागर है। जलमहल भवनों का समूह है जिसमें कुल छह भवन है। इन भवनों में गोपाल भवनभवन….

पोंटा साहिब : हिमाचल का मोती (PAONTA SAHIB : PEARL OF HIMACHAL)

हिमालय की तलहटी और यमुना नदी का किनारा जो सात सुरों को एक सूत में पिरोने वाला लगता है। एक ओर हरे पेड़ों से लदे पहाड़ और काले पानी वाली कालिंदी इस शहर को और सुंदर बनाती है। वहीं इसकी आध्यात्मिक शांति लोगों को अपनी ओर खींचती है। यमुना केवल इस शहर के किनारे से बहती ही नहीं है बल्कि ये राज्यों का बंटवारा भी कर देती है। एक ओर बद्रीनाथ, केदारनाथ वाली देवभूमि और दूसरी ओर ज्वाला देवी, नयना देवी, ब्रजेश्वरी देवी वाली देवभूमि। यमुना किनारे बसा ये शहर सिखों की दसवें गुरु गोविंद सिंह की याद दिलाता है। हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में स्थित इस शहर का नाम है पांवटा साहिब…

जबलपुर – संगमरमर नगरी (JABALPUR – THE CITY OF MARBLE)

जबलपुर, द सिटी ऑफ मार्बल (Jabalpur The City Of Marble)। कई लोग इसे संगमरमर नगरी या मार्बल सिटी भी कहते हैं। जबलपुर भारत के इतिहास से लेकर राजनीति(Politics), संस्कृति(Culture) से लेकर पर्यटन(Tourism) में अहम स्थान रखता है। शहर का नाम जाबालि ऋषि के नाम पर जबलपुर हुआ है। अंग्रेजों के समय इस शहर को जब्बलपोर(Jabbalpore) के नाम से जाना जाता था। भारत में बहुत कम शहर होंगे जहां नदी, पहाड़, इतिहास की यादें सबकुछ एक साथ हो। जबलपुर केवल एक शहर नहीं है बल्कि एक याद है जिसे महसूस किया जा सकता है।

आभानेरी – सूर्य का शहर (ABHANERI – THE CITY OF THE SUN)

पहेली, भूमि, भूल-भुलैया, द फॉल और द डार्क नाइट राइजेस इन सारी फिल्मों में एक समानता है जो इन्हें राजस्थान की एक जगह से जोड़ती है। बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड की ये फिल्में इस जगह की भव्यता, सुंदरता और विशालता को एक साथ लाकर फिल्मों को और ज्यादा रोचक बनाया गया। राजस्थान की ये जगह है दौसा जिले का “आभानेरी”। आभानेरी जिसे सूर्य की नगरी (The City Of The Sun) भी कहा जाता है।

कुरुक्षेत्र : योद्धाओं का शहर (KURUKSHETRA : THE CITY OF WARRIORS)

कुरुक्षेत्र के बारे में तो सभी ने सुना ही होगा। एक ऐसी धरती जहां महाभारत का भीषण युद्ध हुआ था। इतिहास की परतों को खोलता कुरुक्षेत्र केवल धार्मिक शहर नहीं है बल्कि ये तो कई रहस्यों को दबाए हुए है। कई सारी ऐतिहासिक धरोहरों और किरदारों से कहानी कहता कुरुक्षेत्र हरियाणा के विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है। आइए कुरुक्षेत्र को और करीब से जानते हैं……

भरतपुर की फूड सफारी

इस चटोरी दुनिया में चटोरे लोगों की कमी नहीं है। वैसे भी चटोरे अपना ठिकाना तो ढूंढ ही लेते हैं। यदि आप भरतपुर में जा रहे हैं या पहुंच चुके हैं या प्लान बना रहे हैं तो वहां का स्ट्रीट फूड जरूर टेस्ट कीजिए। यहां चटपटे मसालेदार खाने से लेकर सिंपल और जायकेदार पोहे का स्वाद चखना मत भूलिए। सुबह से लेकर रात आप अपने मूड……

भरतपुर : पक्षियों का शहर (BHARATPUR : THE CITY OF BIRDS)

राजस्थान में आपको हरियाली दिखे तो चौंकने की जरूरत नहीं है। पूर्वी राजस्थान पश्चिम के मुकाबले हरा-भरा और प्रकृति के ज्यादा करीब है। बरसात के मौसम में राजस्थान हरियाली की चादर ओढ़े हुए दिखाई देता है। पूर्वी राजस्थान पश्चिम के मुकाबले मौसम के लिहाज से अलग है। इसी पूर्वी राजस्थान में एक शहर है जिसे राजस्थान का पूर्वी दरवाजा कहा जाता और पक्षियों के शहर के नाम से जाना जाता है उसका नाम है ‘भरतपुर’। राजस्थान पूर्वी छोर पर स्थित यह शहर ब्रज के चौरासी कोस में आता है। इस शहर के बारे में तो यह भी कहा जाता है कि यह अपने ही राज्य का सगा नहीं है….